नई दिल्ली: दिल्ली सरकार के विजिलेंस विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली सरकार ने स्कूलों में जारी भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए एक खूफिया यूनिट का निर्माण किया था। फीडबैक यूनिट नाम का ये ग्रुप सीधे मुख्ममंत्री अरविंद केजरीवाल के नीचे काम करता था।

स्कूलों के भ्रष्टाचार के स्टिंग ऑपरेशन करने के लिए इस ग्रुप को पूरे 1 करोड़ रुपए की फंडिंग भी की गई थी। हालांकि ये स्पाई ग्रुप सिर्फ 50 हजार रुपए ही खर्च कर पाया। अब इस केस की एक रिपोर्ट दिल्ली सरकार के विजिलेंस विभाग ने सीबीआई को दी है।

क्लर्क के नाम पर पैसा जारी
जानकारी के मुताबिक, पिछले महीने सीबीआई ने इस मामले में एक केस भी दर्ज किया है। कालका पब्लिक स्कूल में दाखिले को लेकर मांगे जाने वाली रिश्वत की शिकायत के आधार पर जांच के लिए करीब 50 हजार रुपए खर्च किए गए। ये पैसा एसीबी के क्लर्क कैलाश चंद के नाम पर जारी किया गया था। लेकिन जब रिकॉर्ड की जांच की गई तो पाया गया कि इस नाम का कोई कर्मचारी एसीबी में काम ही नही करता। सूत्रों के अनुसार, इस खुफिया विभाग का हिस्सा इंटेलिजेंस ब्यूरों के कुछ रिटायर्ड अधिकारी, इन्कम टैक्स और दूसरी जांच एंजेन्सियों के अधिकारी थे। विजिलेंस विभाग के एक खत के अनुसार इस विभाग को एक कार, 2 एसयूवी और 3 मोटरसाइकिल दी गई थी।

विजिलेंस विभाग को नहीं कोई जानकारी
इसके अलावा 4 डाटा ऑपरेटर भी स्पोर्टिंग स्टाफ के तौर पर लगाए गए थे। सीबीआई अब इस केस की छानबीन कर रही है। इस फीडबैक यूनिट में शामिल कर्मचारियों को मेहनताना उपस्थिति के आधार पर दिया जाता था। कमाल की बात है कि इस यूनिट के स्टाफ की शत प्रतिशत हाजिरी रही है। फरवरी 2016 से 40,82,982 रुपए इस विभाग के कर्मचारियों कै सैलरी, टेलिफोन और दूसरे खर्चों को पूरा करने के लिए जारी किए गए थे। लेकिन जिस विजिलेंस विभाग के अधीन इस यूनिट को बनाया गया था उसे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि इस यूनिट के कर्मचारी कहां बैठते थे और इन्होंने क्या काम किया।

Exclusive Videos

Rajmangal Times

Editorial Office:
258, Metro Apartments,
Near Balaswa Crossing
Jahangirpuri Metro Station,
Delhi-110033

Phone: 9810234094, 01127633258
email: editor@rajmangal.com

Go to top